Math hard kyu hai | Math sikhne ka trika

Math क्यो हार्ड लगता है? Math कैसे सीखे 

 

Math क्यु हमे हार्ड लगता है? मेथ को क्यो हम जल्दी समज नही पाते? ये बोहत सारे प्रश्न हमारे पढाइ के समय मे आते है़। हमेशा स्टूडेंट सोचते रहते है, की गणित को कैसे सरल बनाया जाय। लेकिन गणित सरल तो तभी होगा जब आपने बहुत ध्यान से उसे पढ़ा होगा। अगर आपको भी कुछ एसे ही सवाल है, तो यह पोस्ट आपके लीए बोहत ही helpful होगा।

Math kese sikhe?

गणित को ठीक से ना समज पाना 

Math hard लगने की सबसे बडी वजह है, math समज ना पाना, अगर हम गणित को समज लेते है तो वो भी कठीन नही है। क्योकी math कोइ भाषा नही है। Math अांकडाकीय ग्यान है। जीसे समजने के लीए समजना पडता है। गणीत का रटण करके हम गणित को दिमाग मे उतार नही सकते है। अगर हम अच्छी तरह से गणित को समज लेते है तो उसे सिखने की जरूर नहीं रहती। उसके बाद धीरे धीरे math में interest आने लगता है, और math बोहत ही रसप्रद subject बन जाता है।

Math के टॉपिक्स को समझने के लिए अच्छे से अच्छे बुक्स को खरीदे, जिसमे बोहत डिटेल से समझाया हो, टीचर के पास जाकर टॉपिक को समझने की कोसिस करे। अपने किसी दोस्त को पूछे। ऐसे करने से गणित को समझने में आसानी होगी। रिलेटेड examples को बार बार solve करना चाहिए।

यह भी पढे

बेजीक ग्यान न होना ( math का basic clear रखे)

गणित कठीन लगने की दुसरी वजह है, गणित का बेजीक ग्यान(मुल ग्यान) न होना। आप पहली सीडी चडोगे उसके बाद ही दुसरी सीडी आएगी, गणित भी बीलकुल उसकी ही तरह है। पहला स्टेप सीखने के बाद ही दुसरा स्टेप आप परफेक्ट समज पाओगे। और गणित सीखने मे दिक्कत नही आएगी। इसलिए गणित ,में शुरुआती ज्ञान होना बोहत ही जरूरी है। क्यों की गणित के सब टॉपिक्स एकदूसरे से जुड़े हुए है।

बेसिक कांसेप्ट स्कूल में सबसे पहले सिखाया है, कुछ कक्षा तक की पढ़ाई में बेसिक कांसेप्ट ही सिखने को मिलता है, उस समय में अगर अच्छे से समज लिया हो उन्हें गणित में दिक्कत नहीं आती है।

गणित को टालना 

अगर हम दुसरे subject की तुलना मे गणित को avoid करते है, तो भी गणित सिखने की रूची कम हो जाती है़। और गणित हम सीख नही पाते। इसके लिए  आप जीतना महत्व दुसरे सबजेक्ट को देते है, उतना ही महत्व गणित को भी दे। उसे टालने की कोशिष ना करे। हमेसा नया नया अपडेट करते रहे। किसी भी कॉन्सेप्ट्स को बीचमे न छोड़े।

गणित का जितना अभ्यास किया जाय उतना कम है, उसे हमेसा बिना रुकावट के पढ़ना चाहिए। जिससे गणित के कांसेप्ट और ज्यादासे ज्यादा clear होंगे। और गणित आसान लगने लगेगा।

यह भी पढे

स्कुल ना जाना

कोइ अपनेआप तो नही सीख पाता, अगर सीख भी लेता है, तो बोहत कम नोलेज उसको प्राप्त होगा। लेकीन कोइ सीखाने वाला हो तो बोहत ही अच्छे से समज मे आ जाता है। गणित तो समजने का ही विषय है। आप स्कुल जाने का टालते है, कभी कभी स्कुल जाते है, तो कुछ टोपिक छुट जाते है। और अगला स्टेप सीखने मे बोहत दिक्कत आती है। दिक्कत क्या! समज मे भी नही आता है। इसके लीए रेग्युलर स्कुल जाए। छुट्टी ही रखनी है तो दुसरे दिन teacher के पीस जाकर सीख ले। ताकी आपके स्टेप clear हो जाए।

इन सारी वजहों से आपको math हार्ड लगने लगता है। अगर शुरुआत से ही इन बातो का ध्यान रखा जाय तो math इतना हार्ड नहीं लगेगा।

गणित को सरल कैसे बनाया जाय। 

वैसे तो गणित को सरल बनाने की कोई खास ट्रिक नहीं है, की इस ट्रिक से गणित सरल लगने लगेगा। अगर आपका गणित का बेसिक ज्ञान अच्छा है, तो आपके लिए कोई दिक्कत की बात नहीं है।

ज्यादा से ज्यादा पुनरावर्तन करे। 

स्कूल में पढ़ाये हुए कॉन्सेप्ट्स का ज्यादा से ज्यादा revision करे। school में बढ़ाया हुआ बोहत अच्छे से समज में आ जाता है, लेकिन उसे 24 घंटो में revision न किया जाय तो उसे हम  भूलने लगते है। ,मतलब स्कूल में जो पढ़ाया जाय उसे revision जरूर करे।

कॉन्सेप्ट्स को पूरा समजे। 

गणित में किसी भी कांसेप्ट, फार्मूला को पूरी तरह समझना चाहिए। उसे कभी आधा अधूरा न छोड़ना चाहिए। अगर क्लास के टाइम कांसेप्ट क्लियर नहीं होता है, तो उसके बाद फ्री टाइम में टीचर से clear कर ले। या फिर अपने दोस्तों से सिख ले।

यह भी पढे

होमवर्क कॉपी ना करे 

गणित के होमवर्क को कभी कॉपी नहीं करना चाहिए। उसे हमे खुदकी महेनत से ही solve करना चाहिए। अगर आप ऐसा सोचते है की homework कॉपी कर लेते है, और उसके बाद प्रैक्टिस करते है, तो ये गलत है। इसकी बजह से आपके पढ़ाई पर बुरा असर पड़ेगा। मतलब होमवर्क करते समय अपनी खुदकी मेहनत से सोल्व करना चाहिए। अगर कोई सम का solution नहीं निकलता है, तो उसे बाकि रखे और दूसरे दिन अच्छे से सिख ले।

इस तरह अगर गणित को अच्छे से स,समजके पढ़ा जाय तो गणित हमे हार्ड नहीं लगता है। अगर एकबार गणित के लिए रूचि पैदा हो गई तो गणित से इंटरेस्टिंग सब्जेक्ट और कोई दूसरा नहीं है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *